2024-05-20 12:24:45
Moon Grah Effect in Hindi | Moon Grah ko Majboot karne ke upay

पीड़ित चन्द्रमा के प्रभाव और चन्द्रमा को मजबूत करने के उपाय

ज्योतिष शास्त्र में चन्द्रमा ग्रह का बहुत महत्व है चंद्र ग्रह माता, प्रॉपर्टी, मन के कारक होते है और चन्द्रमा ब्लड के कारक भी होते है चन्द्रमा उल्टी आंखे के कारक भी होते है। अगर कुंडली में चन्द्रमा पीड़ित होता है तो जीवन में अनेक प्रकार की समस्याए उत्पन्न होती है। कुंडली में चन्द्रमा के पीड़ित होने के कारण लाइफ में मानसिक शांति की कमी रहती है ऐसे व्यक्ति का मन बेचैन और परेशान रहता है डिप्रेशन होने की सम्भावना रहती है। ऐसा व्यक्ति अवसाद से ग्रसित रहता है। माता से मतभेद रहते है और माता का स्वास्थ्य थोड़ा कमजोर रहता है चन्द्रमा के पीड़ित होने के कारण उल्टी आंख कमजोर हो जाती है। चन्द्रमा के पीड़ित होने के कारण ब्लड में इन्फेक्शन जैसी समस्या होने की सम्भावना रहती है। चन्द्रमा के पीड़ित होने पर फेफड़ो से सम्बंधित समस्या होती है प्रॉपर्टी बनने में देरी होती है। इसलिए कुंडली में चन्द्रमा का मजबूत होना आवश्यक होता है। आइये जानते है चन्द्रमा ग्रह के पीड़ित होने से क्या क्या समस्याए आती है और चन्द्रमा को मजबूत करने के उपाय।

कमजोर चन्द्रमा के लक्षण

● अगर कुंडली में चन्द्रमा पीड़ित होता है तो व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो जाता है। चन्द्रमा के पीड़ित होने पर एंग्जायटी, घबराहट, बेचैनी की समस्या हो जाती है। व्यक्ति के मन में नकारात्मक विचार आते है। व्यक्ति के मन में अनजाना भय बना रहता है।

● अगर कुंडली में चन्द्रमा पीड़ित होता है तो ऐसे व्यक्ति के अपनी माता से मतभेद रहते है माता के साथ वैचारिक मतभेद रहते है और माता का स्वास्थ्य थोड़ा कमजोर रहता है।

● कुंडली में चन्द्रमा के पीड़ित होने पर प्रॉपर्टी से जुडी समस्या भी होने की सम्भावना रहती है ऐसे व्यक्ति का अपना खुद का मकान देर से बनता है और प्रॉपर्टी से जुडी समस्या का भी सामना ऐसे व्यक्ति को करना पड़ता है।

● कुंडली में चन्द्रमा के पीड़ित होने पर उल्टी आंख कमजोर हो जाती है। व्यक्ति को आँखों में परेशानी होती है और कम आयु में ही ऐसे व्यक्ति की आंख कमजोर हो जाती है।

● कुंडली में चन्द्रमा के पीड़ित होने के कारण व्यक्ति को खून में इन्फेक्शन, खराबी की समस्या का सामना भी करना पड़ता है। वाइट ब्लड सेल से सम्बंधित समस्या की सम्भावना रहती है।

● कुंडली में चन्द्रमा फेफड़ो के कारक भी होते है अगर कुंडली में चन्द्रमा पाप ग्रहो के प्रभाव में होते है तो व्यक्ति के फेफड़े कमजोर होते है ऐसे व्यक्ति को जल्दी जल्दी खांसी से सम्बंधित समस्या होती है और फेफड़ो से सम्बंधित समस्या होने की सम्भावना रहती है।

● कुंडली में चन्द्रमा के पाप ग्रहो से पीड़ित होने के कारण व्यक्ति को जल्दी जल्दी जुकाम, खांसी, कफ की समस्या होती है। स्वास्थ्य कमजोर रहता है।

चन्द्रमा को मजबूत करने उपाय | chandrma ko majboot karne ke upay

● चन्द्रमा को मजबूत करने के लिए किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी से कुंडली दिखाकर चन्द्रमा का रत्न मोती धारण करना चाहिए। इससे चन्द्रमा अपने शुभ फल प्रदान करता है और चन्द्रमा के दुष्प्रभाव समाप्त हो जाते है।

● चन्द्रमा को मजबूत करने के लिए दो मुखी रुद्राक्ष भी धारण कर सकते है। रुद्राक्ष धारण करने से भी चन्द्रमा को बल प्राप्त होता है और कमजोर चन्द्रमा के दुष्प्रभाव समाप्त हो जाते है।

● चन्द्रमा को मजबूत करने के लिए प्रतिदिन शाम को चन्द्रमा के मंत्र की एक माला का जाप जरूर करे ॐ सोम सोमाय नमः। इस मंत्र के प्रभाव से चन्द्रमा मजबूत होता है और चन्द्रमा के दुष्प्रभाव समाप्त हो जाते है।

● चन्द्रमा को मजबूत करने के लिए अपने पूजा स्थल में चंद्र यन्त्र भी स्थापित करना चाहिए। चंद्र यंत्र से भी चन्द्रमा मजबूत होता है और चन्द्रमा के शुभ फल प्राप्त होते है।

● चन्द्रमा को मजबूत करने के लिए प्रत्येक सोमवार खीर का सेवन करना चाहिए और सोमवार के दिन शिवलिंग पर कच्चा दूध चढ़ाए। इससे चन्द्रमा मजबूत होता है।

● चन्द्रमा को मजबूत करने के लिए प्रत्येक सोमवार शंकर भगवान का व्रत करे और प्रतिदिन सुबह शिवलिंग पर जल चढ़ाए। इससे चन्द्रमा ग्रह मजबूत होता है और चन्द्रमा के दुष्प्रभाव समाप्त हो जाते है।

● चन्द्रमा को मजबूत करने के लिए सोमवार के दिन सफेद रंग के कपड़े भी पहन सकते है इससे भी चन्द्रमा के दुष्प्रभाव समाप्त होते है और चन्द्रमा के शुभ फल प्राप्त होते है।

अपनी रिपोर्ट देखें

    अन्य राशियाँ

    कुम्भ राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    मीन राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    सिंह राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    मकर राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    तुला राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    कन्या राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    वृष राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    मेष राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    धनु राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    वृश्चिक राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    कर्क राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव, और उपाय

    मिथुन राशि के व्यक्ति का स्वभाव, शादी, शिक्षा, व्यापार, लकी रंग, इष्ट देव

    ओपल रत्न किसे धारण करने चाहिए , इसके फायदें और धारण करने की विधि

    नीलम रत्न किसे धारण करने चाहिए , इसके फायदें और धारण करने की विधि

    माणिक रत्न किसे धारण करना चाहिए , इसके फायदे और धारण करने की विधि

    गोमेद रत्न पहने के फायदे और धारण करने की विधि

    लहसुनिया रत्न पहने के फायदे और धारण करने की विधि

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.